ankganit in hindi - ATG News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, January 6, 2016

ankganit in hindi

*** प्राचीन हिंदू अंकगणित जो पश्चिमी अंकगणित की तुलना में अधिक उन्नत है ***

एक 'ट्रिलियन' कितना है?

उनके पास एक पर कितने शून्य हैं?

बंद करो! बंद करो!

हजारों, करोड़ या सौ बिलियन की इकाई का उपयोग करने का उल्लेख नहीं है।

भारतीय दशमलव प्रणाली या मराठी शब्द का प्रयोग करते हैं।

इसके बारे में सोचो।

क्यों जमत

प्रदर्शन मत करो!

फिर एक पर पचास शून्य, या एक पर एक सौ, कितने,

यह कहना नहीं है।

तो ऐसी संख्याओं का उच्चारण कैसे करें?

लेकिन भारतीय अंकगणित में इसका उत्तर है।

1। अंश वर्तमान दशमलव प्रणाली का जनक है
प्राचीन भारत में गणित पर बहुत सारे शोध किए गए हैं।

जानकारी के अनुसार विश्वकोश में,

प्राचीन काल में भारतीयों द्वारा उपयोग किए जाने वाले प्रतीकों को 'संख्या' कहा जाता है।

ये अंक (1 से 3 और 4) वर्तमान दशमलव प्रणाली के लिए अच्छे हैं।

आर्यभट्ट ने शून्य की खोज की।

जीरो दुनिया के लिए भारत का उपहार है।

2। दशमलव प्रणाली की अवधारणा
आसा वैदिक काल, उत्तर पश्चिम भारत की शुरुआत थी
इन भारतीय गणितज्ञों ने पहली बार दशमलव पद्धति की अवधारणा पेश की।

आसा की अवधारणा कि मूल्य अंकों के स्थान के अनुसार बदल जाएगा, दुनिया को डिजिटलीकरण का एक दशमलव तरीका दिया।

इस तरह से लिखे गए आंकड़े 'हिंदसा' के नाम से जाने गए। आम तौर पर 1 वर्ष में, आर्यभट्ट ने दशमलव प्रणाली को हर जगह पेश किया।

उन्होंने शून्य के लिए 'बी' शब्द का इस्तेमाल किया। बाद में उन्हें 'जीरो' कहा गया।

3। भारतीय प्रणाली में, सत्रहवें प्रतिपादक तक की संख्या ज्ञात की जानी है
अंग्रेजी में संख्याओं की कोई समान शर्तें नहीं हैं।

‘थाऊजंड’, 
‘मिलियन’,
‘बिलियन’,
‘ट्रिलियन’,
‘क्वाड्रिलियन’
ऐसे हजार बार संख्याओं को संज्ञा के रूप में जाना जाता है।

भारतीय प्रणाली में, दसवें से सातवें प्रतिपादक तक की संख्या को अक्सर जाना जाता है,
उदा.
खर्व,
निखर्व,
पद्म,
महापद्म
 परार्धा

बेशक, हम सिर्फ नाम सुन रहे हैं।

तदनुसार उचित संख्या बताना संभव नहीं है;

क्योंकि हमें इसकी आदत नहीं है।

4। भारतीय दशमलव प्रणाली के अनुसार संख्या
संख्या भारतीय पद्धति के अनुसार विभिन्न कोशिकाओं या पुस्तकों में लिखी गई है।

1 एक
१० दहा
१०० शंभर
१००० सहस्र
१०,००० दश सहस्र
१,००,००० लाख
१०,००,००० दहा लाख
१,००,००,००० कोटी
१०,००,००,००० दहा कोटी
१,००,००,००,००० अब्ज
१०,००,००,००,००० खर्व (दश अब्ज)
१,००,००,००,००,००० निखर्व
१०,००,००,००,००,००० पद्म
१,००,००,००,००,००,००० दशपद्म
१,००,००,००,००,००,००,०० नील
१०,००,००,००,००,००,००,०० दशनील
१०,००,००,००,००,००,००,००० शंख
१,००,००,००,००,००,००,००,००० दशशंख
५. एक सौवें के साथ संख्या शून्य है – दशअनंत !
अब अगला नंबर क्या है?

इसे आजमाइए

एक सौ पचास शून्य दसियों की संख्या है;

लेकिन इस संख्या की गणना कैसे करें?

भारतीय प्रणाली का भी एक उत्तर है।

बेशक वे शब्द अब उपयोग में नहीं हैं।

शब्दों की सूची अब किसी भी पुस्तक में उपलब्ध नहीं है। ग

कुछ पुरानी किताबों में उनके संदर्भ हैं।

सी के बगल में एक सूची देखें।
एकं (एक),
दशं (दहा),
शतम् (शंभर),
सहस्र (हजार),
दशसहस्र (दहा हजार),
लक्ष (लाख),
दशलक्ष,
कोटी,
दशकोटी,
अब्ज,
दशअब्ज,
खर्व,
दशखर्व,
पद्म,
दशपद्म,
नील,
दशनील,
शंख,
दशशंख,
क्षिती,
दश क्षिती,
क्षोभ,
दशक्षोभ,
ऋद्धी,
दशऋद्धी,
सिद्धी,
दशसिद्धी,
निधी,
दशनिधी,
क्षोणी,
दशक्षोणी,
कल्प,
दशकल्प,
त्राही,
दशत्राही,
ब्रह्मांड,
दशब्रह्मांड,
रुद्र,
दशरुद्र,
ताल,
दशताल,
भार,
दशभार,
बुरुज,
दशबुरुज,
घंटा,
दशघंटा,
मील,
दशमील,
पचूर,
दशपचूर,
लय,
दशलय,
फार,
दशफार,
अषार,
दशअषार,
वट,
दशवट,
गिरी,
दशगिरी,
मन,
दशमन,
वव,
दशवव,
शंकू,
दशशंकू,
बाप,
दशबाप,
बल,
दशबल,
झार,
दशझार,
भार,
दशभीर,
वज्र,
दशवज्र,
लोट,
दशलोट,
नजे,
दशनजे,
पट,
दशपट,
तमे,
दशतमे,
डंभ,
दशडंभ,
कैक,
दशकैक,
अमित,
दशअमित,
गोल,
दशगोल,
परिमित,
दशपरिमित,
अनंत,
दशअनंत.’
वर्ग संख्या ट्रिक्स
संख्या 41 से 50 तक वर्ग :
41 चा वर्ग = 16  81
42 चा वर्ग = 17  64
43 चा वर्ग = 18  49
44 चा वर्ग = 19  36
45 चा वर्ग = 20  25
46 चा वर्ग = 21  16
47 चा वर्ग = 22  09
48 चा वर्ग = 23  04
49 चा वर्ग = 24  01
50 चा वर्ग = 25  00
वर्ग संख्या लेआउट पर पूरा ध्यान दें
आरोही क्रम लेआउट 16,17,18,19,20,21,22,23,24,25 देखें। साथ ही
81,64,49,36,36,25,16,09,04,01,00 के लिए 9,8,7,6,5,4,3,2,1,0 वर्ग लेआउट बनाया गया है।
उपरोक्त दो लेआउट के बीच के रिश्ते को ध्यान में रखना आसान है।
संख्या 51 से 60 तक होती है:
आसान मोड
           इस लेख को पढ़ने के बाद 51 से 60 तक की संख्याओं को ध्यान में रखते हुए आसानी से संभव है। वहां लेआउट और थोड़ी सी मेमोरी का उपयोग करके, हम स्थायी रूप से 51 से 60 वर्गों को याद कर सकते हैं और जब चाहें याद कर सकते हैं।

        51 चा वर्ग =  26   01
        52 चा वर्ग =  27   04
        53 चा वर्ग =  28   09
        54 चा वर्ग =  29   16
        55 चा वर्ग =  30   25
        56 चा वर्ग =  31   36
        57 चा वर्ग =  32   49
        58 चा वर्ग =  33   64
        59 चा वर्ग =  34   81
        60 चा वर्ग =  36   00 (3500+100)
ऊपर दिए गए लेआउट को बारीकी से देखें।
51 से 59 वर्ग के अनुक्रमों में 26,27,28,29,30,31,32,33,34,34,33,34 के अनुक्रमिक अनुक्रम बने हैं। इसके अलावा 01,04,09,16,25,36,49,64,81 क्रमशः 1 से 9 की कक्षाओं के आरोही लेआउट दिखाए गए हैं।
60 के वर्गों का योग और अगले 10 के क्रमशः 100 (3500 + 100 = 36 00) के वर्गों का योग 60 के वर्गों में बनता है।
साथ ही
91 चा वर्ग  82  81
92 चा वर्ग  84  64
93 चा वर्ग  86  49
94 चा वर्ग  88  36
95 चा वर्ग  90  25
96 चा वर्ग  92  16
97 चा वर्ग  94  09
98 चा वर्ग  96  04
99 चा वर्ग  98  01
100 चा वर्ग 100 00
इस प्रकार आगे अवलोकन से
सरल ट्रिक्स बना सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here