nirma news: निरमा 9,400 करोड़ रुपये सीमेंट कंपनी खरीदेगी - ATG News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, July 12, 2016

nirma news: निरमा 9,400 करोड़ रुपये सीमेंट कंपनी खरीदेगी

nirma news 

निरमा 9,400 करोड़ रुपये सीमेंट कंपनी खरीदेगी
------------------------------
निरमा कंपनी सीमेंट कंपनी लाफार्ज इंडिया को 1.४  अरब डॉलर (९४००  करोड़ रुपये) में खरीदेगी। Lafarge India दुनिया की सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी है और Lafarge-Holcim की भारतीय शाखा है। प्रतिस्पर्धा नियामक आयोग (CCI) को अब इस लेनदेन के लिए मंजूरी मिल जाएगी। अजय पीरामल के पीरामल एंटरप्राइजेज और सज्जन जिंदल की JSW सीमेंट कंपनी ने भी लाफार्ज इंडिया को खरीदने के लिए बोली लगाई थी। विदेशी कंपनियों और निजी इक्विटी फंडों ने भी कंपनी को खरीदने की कोशिश की। लेकिन निरमा की बोली बहुत अधिक थी।

लाफार्ज इंडिया में तीन संयंत्र और दो पीस स्टेशन हैं। इनकी वार्षिक क्षमता 1.१  मिलियन टन है। कंपनी रेडीमिक्स को भी ठोस बनाती है। निरमा की सहायक कंपनी सिद्धिविनायक सीमेंट की राजस्थान में २०  लाख टन की क्षमता है। लाफार्ज इंडिया को खरीदने के बाद, इसकी क्षमता 1.३5 मिलियन टन होगी। कंपनी गुजरात के महुवा में एक नया संयंत्र स्थापित करने की योजना बना रही है। लाफार्ज-होल्सिम ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से घोषणा की कि कंपनी की सहायक कंपनी एसीसी लिमिटेड और अंबुजा सीमेंट के माध्यम से अपना कारोबार जारी रखेगी। एसीसी, अंबुजा सीमेंट की कुल क्षमता 6 मिलियन टन प्रति वर्ष है। लाफार्ज-हॉलिसिम 19 देशों में कारोबार करता है। इसके दुनिया भर में लगभग १. १ ५  मिलियन कर्मचारी हैं। कंपनी का सालाना कारोबार दो लाख करोड़ का है।

** एकाधिकार के कारण 'लाफार्ज इंडिया' की बिक्री:

लाफार्ज एक फ्रांसीसी कंपनी और होलसिम स्विट्जरलैंड थी। दोनों ने दो में एक साथ रहने का फैसला किया। लाफार्ज-होल्सिम बाद में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गई। एकाधिकार के जोखिम को देखते हुए, कई देशों के नियामकों ने कंपनी को कुछ पौधों को बेचने के लिए कहा है। भारत में, CCI ने ५१. १  लाख टन संयंत्र बेचने का निर्देश दिया है। 7 अप्रैल को, कंपनी ने जाजोबेरा और सोनाडीह की शाखाओं को पांच हजार करोड़ रुपये में बेचने के लिए एमपी बिड़ला समूह के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। लेकिन खानों के हस्तांतरण के कारण सौदा रद्द कर दिया गया था। उस समय लाफार्ज-होलसिम ने पूरे लाफार्ज-भारत को बेचने का फैसला किया। दक्षिण कोरिया में संयंत्र को नियामक अनुमोदन के लिए बेचा जाना था। सऊदी अरब सहित कुछ देशों में ऐसी ही चर्चा चल रही है।

** करसनभाई डिटर्जेंट साइकिल पर विकास

निरमा अहमदाबाद की कंपनी है। इसका टर्नओवर लगभग रु ७३ 00 करोड़ रुपये। यह कंपनी शेयर बाजार में सूचीबद्ध नहीं है। केमिस्ट्री से स्नातक करणभाई पटेल कंपनी के अध्यक्ष हैं। अपना काम करते हुए, उन्होंने 19६३  में घर में एक डिटर्जेंट बनाया और उसे साइकिल पर बेच दिया। उस समय, हिंदुस्तान लीवर डिटर्जेंट १३  रुपये प्रति किलो बेचा जा रहा था। करसनभाई ने अपनी डिटर्जेंट को तीन रुपये किलो में बेचा और इसका नाम निरमा रखा। भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के तीन विनिर्माण संयंत्र हैं। कंपनी में लगभग१८ ,000 कर्मचारी हैं।

** सीमेंट सेक्टर में बड़ी डील

इस वर्ष सीमेंट क्षेत्र में लाफार्ज इंडिया का अनुबंध दूसरा सबसे बड़ा है। एक सप्ताह पहले, जेपी एसोसिएट्स ने अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी की एक शाखा को रु। इसकी क्षमता 1.७२  मिलियन टन है 

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here