नौकरी छोड़ शुरू किया स्टार्टअप, फर्नीचर की होम डिलीवरी कर बना लिया 1000 करोड़ का कारोबार

अगर कायदे से देखें तो ई-कॉमर्स क्षेत्र में पहले से ही ढेरों स्टार्टअप्स ने अपनी एक बड़ी जगह बना चुकी है। इन हालातों में नए स्टार्टअप के लिए हर कदम पर बड़ी चुनौती रही है। लेकिन कुछ ऐसे उद्यमी आज भी हैं, जिन्होंने स्टार्टअप जगत की इन तमाम बाधाओं को दरकिनार करते हुए करोड़ों रूपये की कंपनी खड़ी कर ली। आज की कहानी एक ऐसे ही सफल उद्यमी की है जिन्होंने बेहद कम समय में अपनी स्ट्रांग ब्रांड इमेज बनाई और फिर उसके आधार पर ऑफलाइन अलग-अलग शहरों में स्टोर्स भी खोले। राह में आई तमाम चुनौतियों का डटकर मुकाबला करते हुए देश की एक नामचीन स्टार्टअप की आधारशिला रखने इस शख्स की कहानी बेहद प्रेरणादायक है।

आज हम बात कर रहें हैं पेपरफ्राई डॉट कॉम के सीईओ और सह-संस्थापक आशीष शाह की सफलता के बारे में। आशीष अपने मित्र अमरीश मूर्ति के साथ मिलकर भारतीय ई-कॉमर्स जगत में कदम रखते हुए कुछ ही वर्षों में पेपरफ्राई को एक नए मक़ाम पर पहुँचाया। पढ़ाई पूरी करने के बाद आशीष ने कई छोटे-बड़े स्टार्टअप के साथ काम करते हुए तजुर्बे हासिल किये। इसके बाद कुछ मल्टी-नेशनल कंपनी के साथ काम करते हुए ई-बे पहुंचे और वही इनकी मुलाकात अबरीश से हुई। फिर दोनों ने मिलकर अपना स्टार्टअप लांच करने का फैसला लिया।
साल 2012 में दोनों दोस्तों ने पेपरफ्राई डॉट कॉम के रूप में एक ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट लांच किया। पेपरफ्राई कपड़े, होम डेकोर, आभूषण, लाइफस्टाइल आइटम्स और फर्नीचर की एक विशाल रेंज को लोगों के सामने प्रस्तुत किया। चूंकि उस वक़्त बाज़ार में पहले से ही कुछ ऑनलाइन पोर्टल थे जो फैशन के क्षेत्र में अपनी पहचान बना चुके थे, लेकिन फिर भी पेपरफ्राई अच्छा कारोबार किया। फर्नीचर और होम डेकोर आइटम्स को लोगों ने ज्यादा सराहा और फिर इन्होंने अपने कारोबार को डिजाइनिंग फर्नीचर बेचने के लिए ही पूरी तरह से समर्पित कर दिया।
साईट लांच होने के महज एक महीने में ही पेपरफ्राई ने साढ़े तीन सौ परसेंट की ग्रोथ दर्ज की। किसी भी स्टार्टअप के लिए इतनी तेज़ी से ग्रोथ करना वाकई मायने रखता है। मार्च 2013 में इन्होंने अपना पूरा फोकस डिजाइनिंग फर्नीचर और होम डेकोर आइटम्स की ओर कर लिया। और इन्होंने सबसे छोटे शहरों पर ज्यादा फोकस किया।
आशीष बतातें हैं कि हमने पेपरफ्राई को ऑनलाइन फर्नीचर स्टोर में बदलने का डिसीजन लेते हुए टायर टू व थ्री सिटीज के कस्टमर्स तक डिजाइनर फर्नीचर पहुँचने की कोशिश शुरू करी क्योंकि ऑनलाइन बिजनेस का ज्यादा हिस्सा नॉन मेट्रो सिटीज से ही आता है।

आशीष का यह आइडिया बेहद कारगर सिद्ध हुआ और पेपरफ्राई दिन-प्रतिदिन बड़ा होता चला गया। आज तीन करोड़ से ज्यादा ग्राहकों को अपना बनाते हुए पेपरफ्राई देश की एक्सक्लूसिव ऑनलाइन फर्नीचर स्टोर के रूप में पहचान बना चुकी है।
कई राउंड में करोड़ों रूपये की फंडिंग उठाते हुए पेपरफ्राई आज देश की एक अग्रणी ई-कॉमर्स पोर्टल है। इतना ही नहीं पेपरफ्राई की मार्केट वैल्यू 1000 करोड़ के पार है।

अपनी सफलता को लेकर आशीष कहतें हैं कि हमने रिस्क भी लिया और गलतियां भी की, लेकिन हमने उनसे सीखा और डैमेज कंट्रोल में देर नहीं की। सप्लाई चेन में मौजूद कमियों को दूर करके हमने ज्यादा सुविधाजनक वितरण प्रणाली तैयार किया।

Post a Comment

0 Comments