Movie Review: प्रीक्वल के मुकाबले कमजोर है 'फुकरे रिटर्न्स' की कहानी - ATG News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Friday, December 15, 2017

Movie Review: प्रीक्वल के मुकाबले कमजोर है 'फुकरे रिटर्न्स' की कहानी

Movie Review: प्रीक्वल के मुकाबले कमजोर है 'फुकरे रिटर्न्स' की कहानी

रेटिंग2/5स्टार कास्टऋचा चड्ढा, वरुण शर्मा, पुलकित सम्राट, अली फजल, मनजोत सिंह, पंकज त्रिपाठी, विशाखा सिंह और प्रिया आनंदडायरेक्टरमृग्दीप सिंह लाम्बा​म्यूजिकसमीर उद्दीन, राम संपत, प्रेम हरदीप और सुमीत बेल्लारे​प्रोड्यूसरफरहान अख्तर और रितेश सिधवानीजॉनरकॉमेडी

2013 में आई फिल्म 'फुकरे' की सीक्वल 'फुकरे रिटर्न्स सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। फिल्म में ऋचा चड्ढा, वरुण शर्मा, पुलकित सम्राट, अली फजल और मनजोत सिंह अहम भूमिका में हैं। मृग्दीप सिंह लाम्बा ने फिल्म का डायरेक्शन किया है। जानते हैं कैसी है फिल्म:-

 

'फुकरे रिटर्न्स' की कहानी

 

फिल्म की कहानी वहीं से शुरू होती है, जहां प्रीक्वल खत्म हुआ था। चार दोस्त हनी (पुलकित सम्राट), चूचा (वरुण शर्मा), जफर (अली फजल) और लाली (मनजोत सिंह) हैं। चूचा सपने देखता है, जिसके आधार पर हनी लॉटरी के टिकट का नंबर निकालता है और जीत जाता है। इसी बीच भोली पंजाबन (जो पिछली फिल्म में जेल चली गई थी) एक साल बाद जेल से बाहर आती है। चारों दोस्तों की मुश्किल तब बढ़ जाती है, जब चूचा को सपने में एक खजाना दिखाई देता है और भोली उनपर उस खजाने तक पहुंचाने का दबाव बनाती है। फिल्म में कई फनी ट्विस्ट आते हैं, जिनके बारे में जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

 

डायरेक्शन

 

मृग्दीप सिंह लाम्बा ने चार साल बाद 'फुकरे' का सीक्वल बनाया है। लेकिन वे पिछली फिल्म वाली फीलिंग दूसरे पार्ट में नहीं दे पाए हैं। सभी किरदारों को उनके हिसाब से जगह वे नहीं दे पाए हैं। कहानी काफी कमजोर और कन्फयूजिंग है। जफर और लाली के कैरेक्टर को ठीक तरह से जस्टिफाई नहीं किया गया है। कहानी के साथ-साथ क्लाइमैक्स को दुरुस्त किया जा सकता था। 

 

एक्टिंग

 

पंकज त्रिपाठी ने जबर्दस्त एक्टिंग की है। पर्दे पर उनकी मौजूदगी आपको खूब गुदगुदाती है। इसके अलावा, चूचा के किरदार में वरुण शर्मा एकदम फिट बैठे हैं। वे भी ऑडियंस को खूब हंसाते हैं। ऋचा चड्ढा ने भोली पंजाबन का किरदार सहज तरीके से निभाया है। बाकी एक्टर्स ने भी अपने-अपने हिस्से का काम ठीक तरह से किया है। 

 

म्यूजिक

 

पिछली फिल्म के मुकाबले फिल्म का संगीत कमजोर है। पिछली फिल्म का सॉन्ग 'अंबरसरिया...' खूब हिट हुआ था। इस बार भी बीच-बीच में इसी गाने को चलाने की कोशिश की गई है। हालांकि, लेकिन इस बार ऐसा कोई नया सॉन्ग नहीं है, जो दर्शकों को याद रह सके। 

 

देखें या नहीं

 

वैसे तो फिल्म की कहानी में दम नहीं है, लेकिन अगर आप 'फुकरे' की स्टारकास्ट की एक्टिंग के कायल हैं तो इसे एक बार देख सकते हैं या फिर टीवी पर आने का इंतजार भी किया जा सकता है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages