Vikrant Rona Review - ATG News

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, July 28, 2022

Vikrant Rona Review


Vikrant Rona Review: 
सस्पेंस और थ्रिलर से भरपूर है फिल्म, किच्चा सुदीप ने की जबरदस्त एक्टिंग Vikrant Rona Review: किच्चा सुदीप की फिल्म विक्रांत रोणा सिनेमाघरों पर रिलीज कर दिया गया है. अगर आप देखने जाने वाले हैं तो पहले पढ़ लें रिव्यू. Vikrant Rona Review In Hindi: साउथ की फिल्मों का हल्ला इन दिनों इतना है कि कौनसी फिल्म कितना कमाल कर जाए. कह नहीं सकते कन्नड़ फिल्म विक्रांत रोणा हिंदी में डब होकर आई है. फिल्म में मेन रोल में किच्चा सुदीप हैं और गेस्ट रोल में जैकलीन फर्नांडिस हैं. जी हां वो गेस्ट रोल में ही हैं कहानी इस फिल्म की कहानी के बारे में ज्यादा नहीं बताया जा सकता क्योंकि ये एक मिस्ट्री है. मेन प्लॉट ये है कि एक गांव में कुछ अजीब हो रहा है और उसे सुलझाने के लिए वहां इंस्पेक्टर विक्रांत रोणा आते हैं. इसके बाद क्या होता है इसके लिए आपको टिकट लेनी पड़ेगी. एक्टिंग किच्चा सुदीप पूरी फिल्म में छाए हुए हैं. उनकी एंट्री से लेकर उनका स्वैग, स्टाइल गजब का है, वो खूब स्टाइलिश लगे हैं. बाइक चलाते हुए या जीप चलाते हुए सुदीप कमाल के लगते हैं. उनकी डायलॉग डिलीवरी भी कमाल की है. जैकलीन फर्नांडिस फिल्म में छोटे से रोल में है. उनका एक सीन है और एक गाना तो उन्हें फिल्म की हीरोइन के तौर पर क्यों पेश किया गया ये समझ से परे है. इसके अलावा निरुप भंडारी की एक्टिंग अच्छी है. बाकी सारे कलाकारों ने भी अच्छा काम किया है. फिल्म का फर्स्ट हाफ स्लो है और कई बार समझ नही आता कि क्या हो रहा है. गांव में हमेशा अंधेरा ही क्यों रहता है. क्या सारी शूटिंग रात में ही की गई है? हालांकि कई हॉरर सीन ऐसे आते हैं कि आप डर जाते हैं और इंटरवल वाला सस्पेंस आपको हिला देता है. इसके बाद तो फिल्म की कहानी में एक के बाद एक सस्पेंस आते हैं और आपको सीट से हिलने तक का मौका नहीं मिलता. फिल्म की कहानी में इतनी लेयर्स हैं कि आपको एक दम अलर्ट होकर फिल्म देखनी पड़ती है यानि दिमाग का इस्तेमाल करना पड़ा है. फिल्म का म्यूजिक हालांकि कहानी को स्लो करता है और गाने बेकार में ठूंसे हुए लगते हैं. एक्शन ठीक ठाक है..ऐसा कुछ नया नहीं है लेकिन फिल्म का जान उसका सस्पेंस है. अनूप भंडारी ने फिल्म को डायरेक्ट किया है और उनका डायरेक्शन अच्छा है. वो दर्शकों को बांधने में कामयाब रहे हैं. हालांकि फर्स्ट हाफ थोड़ा और बेहतर किया जा सकता है.

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here